महर्षि जन्मोत्सव कार्यक्रम बड़े ही धूमधाम से मनाया गया

सुल्तानपुर (विवेक तिवारी/संदीप सिंह) महर्षि विद्या मंदिर में धूमधाम से मनाया गया महर्षि ज्ञान युग दिवस व जन्मोत्सव

आज आज दिन रविवार दिनांक 12 जनवरी के शुभ अवसर पर महर्षि विद्या मंदिर के प्रांगण में महर्षि जन्मोत्सव कार्यक्रम बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में विशेष न्यायिक न्यायाधीश आरपी शुक्ला जी उपस्थित रहे। विशिष्ट अतिथि के रूप में आरपी सिंह वरिष्ठ अधिवक्ता उच्च न्यायालय लखनऊ, आयुष चतुर्वेदी परियोजना अधिकारी माध्यमिक शिक्षा, शिव बहादुर त्रिपाठी प्रवक्ता भारतीय संविधान कमला नेहरू सामाजिक एवं भौतिक विज्ञान संस्थान सुलतानपुर ,लक्ष्मण गांधी वरिष्ठ समाजसेवी आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि की उपस्थिति में परंपरागत गुरु पूजा के साथ दीप प्रज्वलन करके किया गया। तत्पश्चात प्रधानाचार्य ने मुख्य अतिथि सहित सभी विशिष्ट अतिथियों का पुष्पगुच्छ व बैज लगाकर तथा स्मृति चिन्ह प्रदान कर स्वागत किया। प्रधानाचार्य जगत नारायण उपाध्याय ने अपने स्वागत भाषण में मुख्य अतिथि सहित समस्त अतिथियों का स्वागत करते हुए महर्षि जी के 103 में जन्मदिन पर समस्त स्थित समुदाय को बधाई देते हुए महर्षि जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला और कार्यक्रम की का संक्षिप्त परिचय देते हुए बताया किस प्रकार महर्ष प्रणीत भावातीत ध्यान विश्व शांति में विधि एवं न्याय की व्यवस्था स्थापित करने में सहायक है और सभी लोगों का आवाहन किया कि भावातीत ध्यान का नियमित अभ्यास करके हर व्यक्ति समाज की एक इकाई के रूप में विश्व शांति स्थापित करने में अपना सहयोग प्रदान कर सकता है और निश्चित रूप से विश्व शांति की स्थापना पूरे विश्व में संभव हो सकेगी। अवसर पर महर्षि विद्या मंदिर समूह की वार्षिक पत्रिका ज्ञान का विमोचन किया गया। इसके उपरांत विद्यालय की छात्राओं के द्वारा स्वागत गीत एवं सरस्वती वंदना प्रस्तुत की गई। इस अवसर पर विधि एवं न्याय द्वारा विश्व शांति की स्थापना विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें उपस्थित वक्ताओं ने अपने अपने विचार प्रस्तुत किए। मुख्य अतिथि आरपी शुक्ला ने महर्षि विद्या मंदिर द्वारा आयोजित इस सेमिनार की प्रशंसा करते हुए कहा कि ब्रह्मलीन महर्षि महेश योगी के द्वारा विश्व शांति की दिशा में भावातीत ध्यान का आयोजन बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। महर्षि महेश योगी द्वारा बताई गई तकनीक भावातीत ध्यान के अभ्यास द्वारा चेतना को जागृत करके प्राकृतिक नियमों का समर्थन प्राप्त करते हुए वर्तमान में बनाई गई विधि व्यवस्था एवं न्याय द्वारा निश्चित रूप से समाज में विश्व शांति की स्थापना करने में सहायक है इस दिशा में महर्षि विद्या मंदिर परिवार बहुत ही सराहनीय कार्य कर रहा है जिससे समाज का हर व्यक्ति अजेयता को प्राप्त करते हुए सामर्थ्यवान बने तथा पृथ्वी पर स्वर्ग निर्माण की महर्षि जी की परिकल्पना साकार करने में सब का योगदान प्राप्त हो सके। महर्षि महेश योगी जी ने कई दशक पहले ही विश्व शांति की परिकल्पना को लेकर जिस तरीके से पूरे विश्व में भावातीत ध्यान का प्रचार प्रसार किया वह बहुत ही सराहनीय एवं अनुकरणीय है। इस अवसर पर विद्यालय के छात्र छात्राओं के द्वारा विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। सांस्कृतिक कार्यक्रमों की तैयारी में शिक्षिका संगीता पांडेय, संगीत शिक्षक शिव शंकर मिश्रा, अंजू सिंह, अनुपमा द्विवेदी, ममता सिंह, ममता पांडेय, अनुराधा तिवारी आदि ने अपना सहयोग प्रदान किया। विद्यार्थियों ने अपने संबोधन के माध्यम से विधि और न्याय की महत्ता पर भी प्रकाश डाला।
महर्षि शिक्षण संस्थान द्वारा आयोजित निबंध लेखन प्रतियोगिता में विद्यालय की शिक्षिका मधुलिका सिंह को राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने पर प्रधानाचार्य जी ने आप को प्रशस्ति पत्र व ₹5001 की धनराशि का चेक प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर विद्यालय के समस्त शिक्षक शिक्षिकाएं विद्यार्थी व शिक्षणेत्तर कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम को सकुशल संपन्न कराने में विद्यालय के वरिष्ठ शिक्षक रणंजय सिंह, राजीव नंदन पांडेय, शिवेन्द्र द्विवेदी,नीलम शुक्ला, एम के तिवारी, गंगा शरण पांडेय,मयंक सिंह,जे के पाण्डेय आदि ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *